हाय दोस्तों में संजय मेरी उम्र 26 साल  है  और में एक इंजिनियर हूँ में आपको एक रियल स्टोरी बताने जा रहा हूँ मुझे विश्वास है की आप को जरुर पसंद आयेगी आपका लंड एकदम खड़ा हो जायेगा और आप मुठ मारने पर मज़बूर हो जाओगे और जिनकी चूत गर्म है वो उंगली डाल के अपना पानी निकाल देगी बात उन दिनो की है जब में बी.टेक फर्स्ट इयर मे था उस टाइम मेरी गणित बहुत कमज़ोर थी और मेने अपने एक प्रोफेसर से गणित की कोचिंग लगवाई थी मे रोज कोचिंग जाया करता था वो प्रोफेसर बहुत अच्छी गणित पढ़ाते थे वो घर पर ही कोचिंग पढ़ाते थे उनके साथ उनके घर पर उनकी बीवी थी.
उसका नाम अंजलि था जितना प्यारा और मुलायम नाम था उतनी ही कमसिन वो भी थी एकदम गोरी और नरम बदन वाली वो बहुत ही सेक्सी और मस्त थी और उसकी चूचीयां क्या कहना कोई भी उसको देख ले तो आउट ऑफ कंट्रोल हो जाये ऐसे ही एक दिन मेने उनको झाड़ू लगाते देखा वो नीचे झुकी हुई थी और उनकी मस्त चूंचीयाँ साइड से दिख रही थी उस दिन उनकी चूचीयां क्या कयामत लग रही थी मेरी निगाहे उन पर से हट ही नही रही थी अंजलि भी मुझे घूरने लगी मेरा लंड खड़ा हो गया उसे मे दबाने लगा मेरा दिल करने लगा अभी पीछे से पकड़ के उन्हे चोद डालूं और मे अपने लंड को दबाने लगा मेने मन ही मन उन्हें चोदने का विचार बनाया  बस अब मेरे दिमाग़ में एक ही बात थी? कैसे चोदू अंजलि को?

एक दिन मुझे किसी काम से आउट ऑफ सिटी जाना पड़ा मे दो दिन बाद में वापस आया तो मेरी उन दिनो की क्लास और पढ़ाई रह गयी थी  मेने प्रोफेसर सर साहब से एक्सट्रा टाइम माँगा? सर ने मुझे शाम का टाइम दिया मे पहले दिन तो गया मगर जब दूसरे दिन गया तो सर घर पर नही थे अंजलि घर पर ही थी मेने अंजलि से पूछा सर कहा है अंजलि ने कहा वो  तो अपने दोस्त के पापा की डेथ हो गयी है उनके गावं गये है मेने पूछा कब आयेगे  अंजलि ने कहा वो कल आयेगे ओके मेम में कल आता हूँ अंजलि ने कहा संजय अच्छा हुआ तुम आ गये ज़रा मार्केट से मेरे लिये सब्ज़ी ले आओ मेने कहा ओके मे सब्ज़ी लेने गया और करीब 45 मिनिट में वापस आ गया  अंजलि ने उस टाइम गेट पर अंदर से कुण्डी लगा रखी थी.

मैने डोर बेल बजाई अंजलि नही आई मैने फिर से डोर बेल बजाया और इस बार अंजलि गेट खोलने के लिये आई जैसे ही उसने गेट खोला?.उफ़फ्फ़?  मुझको एकदम शॉट लगा और मैने देखा की अंजलि बाथरूम से नहाती हुई एकदम गीली बाहर आ गयी थी उसने अपने बदन पर अपनी चुन्नी लपेट रखी थी और नीचे सिर्फ़ टावल लपेट रखा था मेरा तो उसको देख कर लंड खड़ा हो गया वो तो अब किसी तरह काबू मे नही रहा?  उसकी चुन्नी से उसकी गोरी गोरी चूंचीयां और गुलाबी निपल साफ दिख रहे थे? उउउफ़ क्या चूंचीया दिख रही थी उसकी चुन्नी मे से? उसके गुलाबी तने हुये निपल साफ नज़र आ रहे थे.

में उसकी तरफ देखने लगा उसने टावल के उपर से अपनी चूत पर हाथ फेरते हुये मुझसे कहा बैठो मे कपड़े पहन के आती हूँ मैं अंदर आ गया और कुर्सी पर बैठ गया और सोचने लगा की अंजलि को कैसे चोदू इतने मे अंजलि आ गई मैने कहा में जाऊं मेडम तो उसने कहा चाय (टी) पी कर चले जाना? अंदर टी.वी वाले रूम मे बैठ जाओ मैं चाय बनाकर लाती हूँ  में टी.वी वाले रूम मे जाकर बैठ गया मैने टी.वी चालू किया तो उस टाइम कोई चेनल नही आ रहा था मैने अंजलि से कहा मेडम कोई चेनल नही आ रहा है तो अंजलि ने कहा सी.डी पर गाने लगा लो मैने जैसे ही सी.डी चालू की तो? उसमें ब्लू फिल्म चलने लगी में एकदम चोंक गया और एकदम से मैने बंद कर दिया अंजलि की आवाज़ आई क्या हुआ चालू नही हुआ क्या मैने कहा कर रहा हूँ तो में ब्लू फिल्म चालू करके बैठ गया एक तो में पहले से ही बेचैन था और उस पर ये फिल्म मेरा लंड पेन्ट मे रहने से इनकार कर रहा था में उसे उपर से ही मसल रहा था.

इतने मे अंजलि पीछे से चाय लेकर आ गयी और पीछे से ही वो फिल्म देखने लगी और उसे मेरी पेन्ट के उपर का टेंट भी साफ दिखाई दिया मुझे मालूम नही पड़ा था लेकिन वो सी.डी देखते हुये मेरा लंड जिस अंदाज़ मे फनफना गया था मेरे सामने अंजलि की चूत और उसकी चूचीयां घूम रही थी अब मैने सोच लिया था बस आज तो अंजलि को चोदना ही है? मैंने अपने आप से ही बड़बड़ाते हुये कहा अंजलि आज तुम्हारी चूत मे ये लंड घुसेगा ये उसने सुन लिया था में अपने लंड को मसलने लगा  मेरा लंड जबरदस्त खड़ा हो गया और किसी भी तरह से अंदर नही रह पा रहा था तभी अंजलि ने पीछे से आवाज़ दी संजय ये क्या कर रहे हो पहले तो मे सकपका गया और कहने लगा नही मेडम में में  मेरे मुँह से आवाज़ नही निकल रही थी फिर भी मैने कहा मेडम वो वो सी.डी तो पहले से लगी हुई थी मैने डरते हुये कहा वो सामने आ गयी और कहने लगी क्या ये तेरे सर भी ना सी.डी नही निकाल कर गये.

मुझे अंजलि की आँखो से लगा की वो भी थोड़ा नाटक कर रही है और आज चुदाने के मूड मे है उसने मुझसे कहा ये लो चाय पी लो मैने कप लिया वो मेरे सामने सोफे पर बैठी और पूछा पहले तुमने ऐसी फिल्म देखी मेने कहा नही अभी तक टी.वी पर वो सीडी चल रही थी और अंजलि भी उसे देखने लगी मेरा लंड अब आउट ऑफ कंट्रोल हो गया मैने उसकी तरफ देखा वो भी मेरे लंड को देख रही थी मैने मेरी पेन्ट के उपर से लंड को दबाया और मैने उसे ज़ोर से पकड़ लिया उसने कहा  ये क्या कर रहे हो मैने कहा मेडम मुझे नही मालूम कंट्रोल नही हो रहा अंजलि ने कहा ज़रा मुझे तो दिखाओ तुम्हारा वो कैसा है  मैने कहा मुझे शर्म आती है उसने कहा यहाँ और कौन है देखने वाला में भी तो तुम्हारे सामने नहाते हुये आ गयी थी.

मैने सोचा यही मौका है और फिर मैने अपनी पेन्ट निकाल को दिया और अंडरवेयर भी निकाल कर मेरे 7.5 इंच लम्बा और 2 इंच मोटे लंड को बाहर निकाला अंजलि की तो आँखे फट गयी उसे जैसे बिजली का शॉट लगा हो और बोली बाप रे इतना लम्बा और इतना मोटा मैने इतना बड़ा कभी नही देखा मैने कहा  क्यों सर का भी तो ऐसा ही होगा अरे नही तुम्हारे सर का तो इसका आधा है और एकदम ढीला ये कितना मोटा और कड़क है और वो उठ कर मेरे पास आ गयी और उसने मेरे लंड को हाथ लगाया उसका हाथ लगते ही लंड और ज़ोर से उछला वाह रे आज तो मज़ा आ जायेगा कहते हुये मेरे उछलते हुये लंड को अपने हाथ मे लिया और हिलाने लगी मेरा तो खुशी से बुरा हाल था आज तो मेरा सपना पूरा हो रहा था अंजलि को चोदने का अब वो मेरे लंड को कुछ देर सहलाती रही.

फिर नीचे बैठ गयी और लंड को चूमते हुये मुँह मे ले कर चूसने लगी मेरा लंड उसके मुँह में पूरी तरह पूरा नही जा रहा था ये मेरा पहला मौका था और मे काफ़ी गर्म हो चुका था उसकी इस हरकत से 5 मिनट मे मेरा पानी उसके मुँह मे निकल गया अंजलि ने कहा ये क्या हुआ इतना जल्दी कामतमाम हो गया मैने कहा ऐसी बात नही है पहली बार किसी ने मेरा लंड चूसा और वो भी फिल्म देखते हुये और आपको आधी नंगी देख कर में पहले ही बहुत गर्म हो गया था  इसलिये जल्दी हो गया मेरा लंड झड़ने के बाद भी ढीला नही हुआ था ये देख कर वो खुश हो गयी उसके मुँह और गालो पर मेरा वीर्य लगा हुआ था इसलिये वो और भी सेक्सी लग रही थी ये देख कर मेरा लंड 5 मिनिट मे ही फिर से कड़क होने लगा अंजलि ने मुस्कुराते हुये पूछा  कैसा लग रहा  मैने कहा मज़ा आ रहा है मेडम  उसने मेरी तरफ देखते हुये पूछा और मज़ा चाहिये.

मैने कहा हाँ तो चलो बेडरूम मे मेंने बेडरूम मे जाने के पहले उसे ज़ोर से अपने पास खींचा और उसके होंठो को किस करने लगा अब मैने उसकी भरी हुई चूंचीयों को भी हाथ लगाया और उसे अपने से चिपका के उसको बेडरूम मे ले गया इसके साथ ही अंजलि ने मुझे अपने दोनो हाथो मे जकड़ लिया मैने भी उसको कस के पकड़ लिया और ज़ोर –ज़ोर से किस करने लगा और हम बेड पर लेट गये मैने अपना हाथ उसके गोल गोल और कसी हुई चूंचीयों पर घुमाया और ज़ोर से दबाने लगा उसके मुँह से ऊओह  संजू और ज़ोर से दबाओं तुम्हारे सर के हाथ मे तो ताक़त ही नही है मैने जल्दी से उसके ब्लाउज के बटन खोल डाले और उसकी काली ब्रा के उपर से ही चूंचीयों को किस करने लगा ब्रा के उपर से ही निपल को मुँह मे ले लिया और चूसने लगा उसकी ब्रा मेरे थूक से गीली हो गयी थी साड़ी भी आधी खुल गयी थी वो सिसकारी ले रही थी श उउउफ़फ्फ़ ओह माआअ की आवाज़ आई.

मैने धीरे धीरे अपना एक हाथ साड़ी और पेटीकोट के उपर से उसकी गठीली जाँघो पर लगाया और उसकी चूत तक पहुँचाया जैसे ही मेरे हाथ ने उसकी फूली हुई गदराई चूत को टच किया वो एकदम उछल गयी अब उसने अपनी साड़ी निकाल दी और मैने उसके पेटीकोट को खोल दिया और उसके पेट को सहलाते हुये उसके गोल और कड़क चुतड दबाते हुये पेटीकोट को नीचे खिसकाया और फिर उसने पैर झटकाते हुये उसे निकाल दिया उसने ब्लेक ब्रा पहन रखी थी ब्रा के अंदर उसके दूधिया स्तन बहुत ही उत्तेजक लग रहे थे इस हालत मे उसे देख कर आप भी आउट ऑफ कंट्रोल हो जाते अब उसने उसकी चिकनी चिकनी जाँघो की बीच में सिर्फ़ स्काइ ब्लू कलर की पेंटी नज़र आ रही थी वो भी जालीदार थी उसकी चूत एक दरार जैसी थी और पेंटी उसमे धँसी हुई थी ये देख कर मेरा लंड एकदम कड़क हो गया.

मैने उसे अपने पास खींचा तो मेरा लंड सीधे उसकी पेंटी के अंदर की चूत को पेंटी के उपर से ही सलामी दे रहा था मैं अब उसे पागलो की तरह किस करने लगा  उपर से नीचे तक मैने बहुत किस लिये गीली जीभ की नोंक से उसके चिकने पेट को चाटा अब मैने पीठ के पीछे हाथ ले जा कर उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और उसकी चूंचीयां उछल कर बाहर आ गयी उसकी कसी चूंचीयां इतनी कयामत ढा रही थी की में अपने आप पर काबू नही रख पाया और मैने दोनो चूंचीयों को ज़ोर ज़ोर से अपने दोनो हाथो से पकड़ा और पूरी ताक़त से दबाने लगा और साथ ही एक एक निपल को चूसने लगा में इस तरह सक कर रहा था की मानो में पका हुआ आम खा रहा हूँ.
वो अब आउट ऑफ कंट्रोल होती जा रही थी और ज़ोर से आहे भरने लगी हाअ हा हाआहा संजय आज मुझको जबरदस्त चोदो तेरे सर भी इतनी अच्छी तरह से नही करते जैसे तुम कर रहे हो अब मैने धीरे से उसकी पेंटी मे उसके चुतड की तरफ से हाथ डाल के गांड से नीचे खिसकाया और उसकी गांड को सहलाते हुये उसके पेट को चूमने लगा और पेंटी भी नीचे खिसकाने लगा उउफफफ्फ़ क्या नज़ारा था उसने शायद आज ही शेविंग बनाई होगी इसका मतलब वो खुद भी मुझसे चुदवाना चाहती है उसकी गोरी चूत पर एक भी बाल नही था मैने एक हाथ से चूत के मुहाने पर हाथ लगाया तो अंजलि सिसक उठी और उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी उसकी चूत से लसलसा पानी बाहर बहने लगा था चूत फड़फड़ाने लगी और मैने सहलाते हुये अपनी उंगली अंजलि की चूत मे आहिस्ता से डाली तो अंजलि उछल गयी और चिल्लाने लगी ऊ संजूऊऊ.

अब मैने अंजलि की चूत पर झुकते हुये उसके दाने को सहलाया वो भी कड़क होने लगा मैने उसकी गुलाबी चूत की दरार को फैलाया और मेरी गर्म जीभ से हल्के से चाटा अंजलि तड़प उठी और अपने पैर सिकोड़ने लगी मैने उसके पैरों को फैलाया और चूत को चाटने लगा और अपने दोनो हाथो से उपर चूंचीया दबा रहा था अब अंजलि जबरदस्त सिसकियां ले रही थी जैसे ही में ज़ोर से चाटने लगा जीभ को और अंदर डाल कर घूमाने लगा उसकी आवाज़ आई हीईीईईईई संजय ऊऊऊऊओह  क्या कर रहे हो अह्ह्ह्हह्ह और कहने लगी चाटो आज तो जितना चाट सकते हो मेरी चूत का पूरा पानी पी जाओ आहह अब अंजलि पूरी तरह गर्म हो चुकी थी चूत से पानी ऐसे बह रहा था जैसे की कोई छोटा नाला हो और उसने मेरा ज़ोर से सिर पकड़ के चूत पर दबाया और उसकी चूत से पिचकारी जैसा पानी निकला और मेरा पूरा चेहरा गीला कर दिया.

मैने जीभ निकाल के अपने होंठ चाटे और अब उसकी आँखे गुलाबी हो गयी थी उसने थोड़ी देर के बाद कहा संजू अब अपना ये मोटा लंड मेरी चूत मे डालो जल्दी से में उसकी जाँघो के बीच आया और अंजलि की दोनो टांगो को उठाया और उसकी गांड के नीचे एक तकिया लगा दिया चूत उपर उठ गयी और उसका गुलाबी दरार थोड़ा फैल गया था उसे मै अपने लंड के करीब लाया अब मैने अंजलि की चूत पर थूक लगाया और मेरे लंड पर भी मैने अपने लंड का मोटा सूपाड़ा अंजलि की चूत के मुँह पर रखा और धीरे से धक्का मारा मेरा लंड का सूपाड़ा ही अंदर गया था की अंजलि ज़ोर से चिल्लाई ओहहह ऊ मरी संजय मर गईईईई कितना मोटा है बहुत दर्द हो रहा है उउक्ककचह मम्मी संजय धीरे डालो अपना ये मूसल लंड मेरी चूत मे पूरा डाल दो आज तो बहुत मज़ा आ रहा है मैने हल्के से दूसरा धक्का मारा लेकिन मेरा लंड उसके अंदर नही जा रहा था उसकी चूत छोटी और बहुत टाइट थी अंजलि कहने लगी क्या हुआ मुझे बहुत दर्द हो रहा है मैने कहा मेडम ये अंदर नही जा रहा है आपकी चूत बहुत टाइट है तब अंजलि ने कहा उस टेबल पर तुम्हारे सर की क्रीम रखी है वो ले आओ मैने लंड को निकाला और क्रीम ले कर आया मैने उसकी चूत मे अच्छे से क्रीम लगाई और उसने मेरे लंड को पूरा क्रीम से चिकना कर दिया और मैने अंजलि की चूत पर भी लगाया अंदर तक लगाया उंगली घुसेड कर अंजलि अब कहने लगी चलो अब अपना सांड़ जैसा लंड अपनी अंजलि की चूत के अंदर डालो और फाड़ के चौड़ा कर दो  मेने अपने लंड का सुपाड़ा वापस से अंजलि की चूत से सटाया और धक्का लगाया अभी मेरा लंड आधा ही गया था में पूरा घूसाने की कोशिश कर रहा था अंजलि अब उठ उठ कर पड़ने लगी ओह्ह्ह्हह्ह माई गॉड ऑश माई गॉड में मरी  ऊओह मैं एकदम रुक गया क्योकी अब लंड अंदर नही जा रहा था.

फिर मैने लंड को थोड़ा बाहर निकाल के ज़ोर का धक्का मारा अंजलि की चूत फट गयी मानो वो ज़ोर से रोने लगी उसकी चूत ने खून निकाल दिया वो चिल्लाई ओह नो संजय धीरे मुझे ताज़्ज़ूब हुआ की चुदी हुई चूत से खून कैसे निकला वो शांत हो गयी थी उसकी आँखों से आँसू निकल रहे थे वो एकदम रुक गयी में भी थोड़ा रुक गया अब में अंजलि के मुँह में मुँह डाल कर किस करने लगा और अपने हिप्स को उपर नीचे किया हल्का सा ऐसा करने से अंजलि को मज़ा आ रहा था अब मै भी अब पूरे जोश मे था एकदम से मैने ज़ोर से धक्का लगाया और मेरा पूरा लंड जड़ तक उसकी चूत मे घुसेड दिया अब मेरा फंनफनाता पूरा लंड अंजलि की चूत को फाड़ता हुआ घुस गया.

अब अंजलि की सांस अटकने लगी और आँखो से आंसू आ गये ऊउ उओ ओह ओहो में 1 मिनिट तक अंजलि के उपर पड़ा रहा अब अंजलि ने मेरे हिप्स को अपनी तरफ खीच लिया और धीरे धीरे उपर नीचे करने लगी अंजलि को मज़ा आने लगा अब मैने अपने चोदने की स्पीड बड़ा दी मेरे धक्के कभी जोरदार होते तो कभी में हल्के से लंड को बाहर निकाल के फिर धीरे से अंदर डालता  ऐसा करते हुये अंजलि करीब 4-5 बार झड़ी  में एक बार उसके मुँह मे झड़ चुका था इसलिये मेरा अभी तक पानी नही निकला था करीब 30 मिनिट के बाद अंजलि ने मुझे ज़ोर से खीच लिया और कस के पकड़ लिया ओहाहह और इस बार वो बहुत जबरदस्त झड़ी.
उसके पानी से चूत से फक फ़हच फ़चाककक की आवाज़ आने लगी नीचे बेडशीट खून और उसके पानी से गीली हो गयी थी इस बार झड़ते ही वो ढेर हो गयी उसका पानी निकल गया मेरा लंड अब और गर्म हो गया उसके चिकने चिकने पानी से अब मेरा भी निकलने वाला था मैने अपना लंड अंजलि की चूत से निकाला तो अंजलि ने कहा क्यो निकाल रहे हो बाहर मैने कहा मेरा निकलने वाला है तो उसने कहा अंदर ही डाल दो कोई प्रोब्लम नही है संजय मैने अपने लंड को वापस अंजलि की चूत मे जड़ तक घुसेड दिया 5-6 बार लंड को जड़ तक खींच खींच के जबरदस्त धक्के लगाये और मेरा पानी अंजलि के अंदर ही पिचकारी की तरह छोड़ दिया और उसकी चूत भर गयी में अब अंजलि के उपर 10 मिनिट तक पड़ा रहा और किस करता रहा.

अब मैने अपने लंड को निकाला और अंजलि के मुँह मे डाल दिया अंजलि ने अच्छे से उसे चाट के साफ किया और अंजलि ने कहा आज तो तुमने अपनी अंजलि को जबरदस्त चोद के उसकी सील तोड़ दी में हैरान रह गया ये सुन कर मैने पूछा इतने दिन से आप कुँवारी थी उसने कहा सच बताऊँ तो ये है की तुम्हारे सर का लंड खड़ा ही नही होता और थोड़ा खड़ा हुआ तो चूत मे घूसने के पहले ही सब निकल जाता है  इसीलिये राजा में तुमसे चुदवाना चाहती थी समझे मैने सर हिलाया  मैने कहा जब भी तुम्हें चुदवाना हो तब मुझे बता देना तो दोस्तो केसी लगी मेरी स्टोरी अच्छी लगे तो इसे शेयर जरुर करे.